भारत में उपलब्ध बाल गिरने के गैर शल्य इलाज

क्या आप सुन्दर घने बाल चाहते हैं लेकिन हेयर ट्रांसप्लांट जैसे सर्जिकल तरीकों से घबराते हैं ? आज हम आपको कुछ ऐसे गैर शल्य तरीकों के बारे में जानकारी देंगे जिससे आप ना केवल अपना बाल झड़ना रोक सकेंगे बल्कि नए बाल ऊगा पाएंगे जिससे आपके बाल घने और स्वस्थ रहेंगे ।तो चलिए एक नज़र डालते हैं उन इलाजों पर:

दवाईयाँ

भारत में दो दवाईयाँ हैं जो सार्वजनिक तौर पर डर्मेटोलॉजिस्ट अपने मरीज़ों को बाल झड़ने के लिख कर देते हैं – मिनोक्सिडिल और फिनस्टराइड। इन दोनों को ऍफ़.डी.ए ने सुरक्षित मान्य दिया है ।

  • मिनोक्सिडिल: यह दवाई 1950 में अलसर के लिए बनाई गयी थी परन्तु जब इसका उपयोग किया गया तो पाया गया कि यह बाल झड़ना भी रोकती है ।इस खोज के बाद जल्द ही इससे मार्किट में रोगेन के नाम से उतारा गया । यह दवाई हमारे सर कि खून कि कोशिकाओं को चौड़ा कर देती है जिससे वो ज़रूरी पोषक तवा और ऑक्सीजन को बालों कि जड़ों तक पहुँचाता है । सरल शब्दों में कहा जाये तो बाल झड़ने के कारण को नै रोकता, बस हमारी बालों कि जड़ों को बढ़ने के लिए सही माहौल दे देता है ।
  • फिनस्टराइड : यह दूसरी ऐसी दवाई है जिसे 1992 में ऍफ़. डी.ए.ने बाल झड़ने के लिए मान्य घोषित किया था । यह दवाई मिनोक्सिडिल से काफी भिन्न है । यह बाल झड़ने के सबसे बड़े कारण- डी.एच.टी हॉर्मोन को कम करती है । दुर्भाग्य से इसके कई साइड इफेक्ट्स हैं जैसे – यौन क्षमता में कमी, इरेक्टाइल डिसफंक्शन तथ कई ऐसा गंभीर समस्याएं । साथ ही साथ ये भी देखा गया है कि जब आप इस दवाई का सेवन बंद कर देते हैं फिर भी ये समस्याएं आपका पीछा नहीं छोड़ती ।

लौ लेवल लेज़र टेक्नोलॉजी

यह एक नयी तकनीक है जिसने बालों कि हेयर केयर इंडस्ट्री में क्रांति ला दी है । यह इलाज महालयों और पुरुषों, दोनों पर काम करता है ।यह बाल झड़ने को कुछ इस तरीके से रोकता है

  • जो बाल टेलोजेन फेज में चले गए हैं उन्हें वापस ऐनाजेन फेज में लेकर आना
  • ऐनाजेन फेज की अवधी को बढ़ाना
  • बाल बढ़ने की गति को बढ़ावा देना
  • समय से पहले काटजेन फेज में बालों को जाने से रोकना

वैज्ञानिकों का कहना है कि इस थेरेपी से सेल मेटाबोलिज्म में वृद्धि होती है तथा खोपड़ी में मौजूद खून कि कोशिकाओं को खोलता है । तो चलिए पहले ये देखें कि भारत में इस थेरेपी का कैसे उपयोग किया जा सकता है –

लेज़र हेलमेट: वैसे तो लौ लेवल लेज़र टेक्नोलॉजी को आप किसी भी हेयर एक्सपर्ट के ऑफिस में ले सकते हैं, परन्तु अब एक ऐसा लेज़र हेलमेट भारत में लांच हुआ है जो आप घर बैठे बैठे  भी बिनि किसी तकलीफ के इस्तेमाल कर पाएंगे । हैरप्रो नामक अमेरिका की मशहूर कंपनी ने भारत में अपना ऍफ़.डी.ए. मान्य लेज़र हेलमेट निकाला है जो आपके बालों को लौ लेवल लेज़र टेक्नोलॉजी के माध्यम से घना और स्वस्थ बनाता है  । साथ ही साथ इसके रेगुलर इस्तेमाल से कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं पाया गया है ।

लेज़र कंघी : लेज़र टेक्नोलॉजी का उपयोग करने वाली यह लेज़र कंघी लेज़र हेलमेट से कम क्षमता रखती है परन्तु असर फिर भी भी करती है, अपितु देर से । जहाँ लेज़र हेलमेट हमारे पूरे सर पे मौजूद हेयर फॉलिकल्स का ध्यान रखता है, लेज़र कंघी केवल उन्ही हेयर फॉलिकल्स का ध्यान रखती है जहाँ हमारा हाथ उसे लेकर जाता है ।

प्राकृतिक तेल और अर्क

याद है आपको वो नानी दादी का सर पर तेल लगाना और कहना की यह हमारे बालों को बढ़ने में मदद करेगा । वैज्ञानिकों ने ये साबित किया है की प्राकृतिक तेल और अर्क सच में हमारे बालों को पोषण देते हैं ।आप जो भी हेयर फॉल ट्रीटमेंट का उपयोग करें परन्तु तेल लगाना न छोड़ें । इसमें आप कुछ और प्राकृतिक अर्क भी मिला सकते हैं जैसे- जैतून, रोजमेरी, नारियल, नीम तथा कई और ।

इन् सभी इलाजों के साथ साथ आपको सही खान पान पर भी ध्यान रखना चाहिए ताकि आप अपने शरीर को अंदर से स्वस्थ बनाएं  । इससे आपके बाल प्राकृतिक तरीके से बढ़ने लगेंगे ।

याद रखें, भले ही हेयर ट्रांसप्लांट और स्कैल्प रिडक्शन जैसे सर्जिकल तरीके आज कल बहुत पॉपुलर हो रहे हैं परन्तु केवल यही तरीके नहीं है बाल उगने के । गैर शल्य  तरीकों से भी कभी कभी उतना या उससे बेहतर परिणाम देखने को मिल सकता है । ये सबसे आसान या सबसे तेज़ तो नहीं हैं परन्तु सबसे ज़्यादा वक़्त तक चलने वाले परिणाम देने वाले इलाज हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *